गुरुवार, 10 मई 2012

मांसाहार और स्वास्थ्य से जुडी दस बातें , कुछ जानकारियाँ

शाकाहारी बनें, स्वस्थ रहें, ज़िम्मेदार रहें 
१. मांसाहारी सिर्फ पशु कोशिकाएं एवं वसा ही नहीं, बल्कि वेस्ट प्रोडक्ट भी ग्रहण करते हैं | जैसे पशुओं को खिलाये जाने वाले रासायनिक भोज्य। उन्हें इंजेक्शन द्वारा दिए गए ड्रग्स जिससे वे जल्दी मोटे/बड़े हों । उन्हें बड़ी संख्या में बिना लड़े, झगडे, हिले डुले, कम जगह में स्थिर रखने के लिए दिए गए नशीले पदार्थ (जिस से व्यायाम न होने और कैलारीज़ न जलने से ये जल्दी मोटे हों) । पशु को मारने के बाद रासायनिक रंग, और मांस व खाल को नर्म रखने वाले स्प्रे आदि।

२. हैमबर्गर गाय के मांस (beef) से बनता है - परन्तु कौन सी गाय? the 4 d's - dead, dying, disabled, diseased. इसी वजह से कुछ लोग हैमबर्गर खाने से मृत्यु के कगार तक पहुँच जाते हैं (कुछ को बचाया भी नहीं जा पात़ा)। अभी भी एक ऐसा कोर्ट केस न्यूज़ में चर्चा में बना हुआ है।

३. मांसाहारियों को अपक्षय (degenerative) बीमारियाँ - जैसे आर्थ्राइटिस, गाउट (arthritis, gout) आदि, ज्यादा होती हैं।

४ . पशु को मारते समय (slaughter house में), कई विषाक्त रसायन ( उसके शरीर से न निकल पाए वेस्ट ) खून से पेशियों में सोख लिए जाते है (जैसे यूरिक एसिड, ऐड्रिनलिन - जिन्हें मृत्यु हो जाने के कारण गुर्दे बाहर नहीं निकाल पाते)। यह सब कुछ उस मासाहारी मनुष्य के पेट में जाता है, जो उसे खायेगा। मारे जा रहे पशु के भय, दर्द, बदले की भावना, और नफरत के कारण, के खून में कई होरमोन आते हैं जैसे एपिनेफ्रिन, नोरेपिनफ्रिन और स्टीरॉइड्स। ये सब विष उस मृत पशु को खाने वाले मनुष्य के पेट में पहुँचते हैं। मनुष्य के शरीर को इस सब से छुटकारा पाने के लिए १५ गुणा अधिक काम करना पड़ता है - फिर भी ये सब पूरी तरह नहीं निकल पाते।

५. अंधापन, गर्भपात, पीलिया रोग और नर्वस बीमारियों को ट्रिगर करने करने वाले परजीवी (पेरासाईट = parasites) भी मांस के माध्यम से शरीर में प्रविष्ट हो सकते हैं।

६. समुद्री भोज्य - मछली, झींगा (प्रॉन) आदि को जीवित रखने के लिए पानी के टैंकों में बोरिक एसिड का प्रयोग होता है। जाहिर है यह उनके शरीर में घुलेगा ही। यह यकृत पर हमला करता है और मस्तिष्क पर भी - और कई बार कोमा की भी स्थिति आ सकती है। इसके विपरीत - यदि इसे फलों और सब्जियों पर स्प्रे किया भी जाए तो भी इनमे वे हॉर्मोन, एंटीबायोटिक आदि नहीं पाए जाते जो मांस में पाए जाते हैं।

७. सूअर (pig) में ट्रिकिनोसिस जीवाणु (trichinosis bacteria) है - जो पेट और अंतड़ियों की दीवारों से चिपक जाता है, और मृत्यु तक हो सकती है।

८. बीफ और पोर्क से तीक्ष्ण एसिडिटी बनती है।

९. मांसाहार से सोडियम इंटेक अधिक होती है - जिससे हाइपरटेंशन (हाई ब्लड प्रेशर) होता है।

१०. टाइप २ का मधुमेह (डाईबिटिज़) मांसाहार की जटिल शर्करा (काम्प्लेक्स कार्बोहाईड्रेट) से अतिशीघ्र और उग्र रूप लेकर भड़क उठता है।

यह जानकारी सभी पाठकों से शेअर कर रही हूँ - आभार।

[शिल्पा मेहता]

15 टिप्‍पणियां:

  1. स्वास्थ्य की दृष्टि से शाकाहार ही श्रेष्ठ उपाय है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उपयोगी जानकारी के लिये आभार शिल्पा जी!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आरोग्य के लिए जागृति प्रेरक जानकारी!!
    आभार शिल्पा जी! निरामय है शाकाहार!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मांसाहार के लिये प्रयुक्त होने वाले जीवों की हत्या के समय उनमें प्रतिकारार्थ होने वाली मनोदैहिक प्रतिक्रियायें...और तज्जन्य जैव रासायनिक स्राव निश्चित ही मनुष्य के लिये हानिकारक है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आश्चर्य है कि इतने भयानक तथ्यों को जानते हुए भी लोग आँखें बंद कैसे कर लेते हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सार्थक जानकारी.... शाकाहार से उत्तम कुछ नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  7. शाकाहार सर्वोत्तम आहार है, उन इलाकों में जहाँ शाकाहारी भोजन उपलब्ध नहीं होने के कारण माँसाहार मजबूरी थी, अब वहाँ भी इस स्थिति में बदलाव आ रहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही अच्‍छी जानकारी ...आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप हमे नित्त नहीं जानकारीयआ प्रदान करती रहती है ! आपका बाहुत धन्यबद !

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्राणी दया या अहिंसा जैसे ऊंचे सिद्धातों को आत्मसात करने में असफ़ल व्यक्तियों को इतना तो समझ ही लेना चाहिये कि मांसाहार से होने वाली बीमारियों का विवेचन किया जाए तो एक बडा ग्रंथ बन जाएगा। दर असल मांस को मानव आहार की श्रेणी में रखना ही उचित नहीं है।
    बढिया आलेख के लिये शिल्पाजी का आभार!

    उत्तर देंहटाएं