शनिवार, 5 जनवरी 2013

शाकाहार या माँसाहार - इस वीडियो को देखने के बाद निर्णय करें.

मेरे एक मित्र श्री गौरव जी गुप्ता ने फेसबुक पर एक वीडियो लिंक शेयर किया है. इसे देखने के बाद स्वयं निर्णय लीजिये कि क्या मांसाहार वाकई उचित है.

जगुप्सा पैदा करने वाले दृश्य है लेकिन विवशता है कि  क्रूरता की हद जाने बिना हम सहजता से अहिंसा के महत्व को भी नहीं जान पाते। आहत-मन से इस वास्तविकता को प्रस्तुत किया जा रहा है।
-निरामिष



4 टिप्‍पणियां:

  1. ओह! जिस कृत्य का वीडियो भी एक सामान्य व्यक्ति देख नहीं सकता उसे दिन मे कई बार अंजाम देने वाले लोग भी हैं - बल्कि पढ़-लिखकर, अपने को सभ्य या धार्मिक कहने के बावजूद ऐसे वहशियाना कृत्यों को सही ठहराने वाले भी हमारे बीच मौजूद हैं, यह भी संसार के क्रूरतम आश्चर्यों में से एक है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस वीडियो को देखना हौसले की बात है जो अन्दर से शाकाहारी हैं वह इसे न देख पायेंगे .कइयों के लिए फेशन स्टेटमेंट है सामिष भोजन . .

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतने क्रूर दुष्कृत्यों पर नजर ठहरना भी दूभर है. आश्चर्य है लोग किस हृदय से इसका समर्थन कर लेते है!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मात्र पेटपूर्ती और मौजशौक के लिए इतने घृणित क्रूर कर्म निंदनीय है.

    उत्तर देंहटाएं